जब indian cricket team ने Australia के खिलाफ follow-on मिलने पर भी मैच match को 171 runs से जीत लिया था

तब की भारतीय टीम का जुनून
  • भारतीय टीम में आज के 5 या 10 साल पहले तक गजब का जोश हुआ करता था समय बदला हालात बदले और जैंटलमैंस का गेम सिर्फ व्यापार बन कर रह गया जहां कोई चेन्नई कोई मुंबई तो कोई बेंगलुरु को जिताने में लगा हुआ है लेकिन उसका क्या जो भारतीय टीम पिछले 10 सालों से कोई आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीत सकी है इससे किसी को रत्ती भर का फर्क नहीं पड़ता लेकिन एक वो भी समय हुआ करता था जब क्रिकेट शरीर तो उसके players उसकी आत्मा हुआ करते थे जहां खेल पैसों के लिए कम और देश के सम्मान और प्रतिष्ठा के लिए ज्यादा खेला जाया करता था. वहां अब के जैसे नॉकआउट मे हम choke भी नहीं किया करते थे. अगर हम मैच हारते भी थे तो लड़ के हारते थे ऐसे हथियार नहीं डाल दिया करते थे ! हम अगर मैं से पिछड़ते थे तो ऐसे नहीं हार जाया करते था बल्कि वापसी करके विपक्षी टीम के दांत खाटे कर दिया करते थे.

ausrtralia की team का भारतीय दौरा

ऑस्ट्रेलियाई टीम भारतीय दौरे पर थी जहां उसे तीन टेस्ट मैचों की श्रृंखला खेलने थी जिसका पहला मैच मुंबई के वानखेड़े में 27 फरवरी से 1 मार्च तक खेला गया और यहां मेहमान कंगारुओं ने हमें हमारी धरती पर 10 विकेट से हरा दिया भारतीय टीम को अपनी ही सरजमी पर पहला मैच कंगारुओं से गांवआने का बड़ा गहरा सदमा लगा अब बस भारतीय टीम ये इंतजार कर रही थी कि दूसरा टेस्ट मैच कब शुरू हुआ और कब वह कंगारुओं को धूल चटा कर अपनी हार का बदला ले सके सीरीज का दूसरा मैच 11 से 15 मार्च तक ईडेन गार्डन में खेला जाना था.

बारी इतिहास रचने की

11 से 15 मार्च तक खेले जाने वाले eiden garden के इस मैच में किसको पता रहा होगा कि इतिहास रचा जाने वाला है टेस्ट मैच शुरू होता है और ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव वॉ ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनी स्कोरबोर्ड पर 445 रनों का विशालकाय score टांग दिया ! आस्ट्रेलिया की ओर से

कप्तान स्टीव वॉ ने 110

मैथ्यू हेडन ने 97 रन की पारी खेली

और भारत की ओर से हरभजन सिंह ने 7 विकेट चटकाए और मैच मे बनाए रखा

जब अपने ही घर पर मामला उल्टा होने लगा

445 रनों के स्कोर का पीछा करने उतरी भारतीय टीम को तो अब घरेलू सरजमीं पर ही मामला उल्टा पड़ता हुआ नजर आने लगा गांगुली की कप्तानी वाली भारतीय टीम पहली पारी में 171 रन पर ढेर हो गई है जो भारतीय टीम इस मैच में यह जुनून लेकर उतरी थी कि कंगारुओं को मसल देंगे वह खुद ही मसले जा चुके थे और उन पर हार का खतरा मंडराने लगा था .

australia का follow on देना और भारतीय टीम का

अब 274 रनों की बढ़त को देखते हुए ऑस्ट्रेलियाई टीम ने भारतीय टीम के सामने फॉलोऑन लागू कर दिया मतलब अब पारी की हार का खतरा भी भारतीय टीम के सामने था और अब इस तरह से लगातार दूसरी पारी में भारतीय टीम को बल्लेबाजी करने का मौका मिला दूसरी पारी में 52 रन के score पर भारत को पहला झटका मिला इसके बाद लगातार अंतराल पर टीम के विकेट गिरते चले गए 225 रन पर 4 विकेट गिर चुके थे.

VVS lakshman और rahul dravid का कमाल

लेकिन अब कहानी में ट्विस्ट आता है नंबर तीन पर बल्लेबाजी करने आए वीवीएस लक्ष्मण एक छोर पर चट्टान की तरह खड़े हुए थे इसके बाद बल्लेबाजी करने आए राहुल द्रविड़ ने लक्ष्मण के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाया और score को 300 के पार ले गए पहले दोनों खिलाड़ियों ने भारतीय टीम के स्कोर को 300 के पार किया और जल्द ही उसको 400 के पार कर दिया और देखते ही देखते स्कोर को 600 के पार पहुंच दिया इसको को देखकर लग रहा था कि भारतीय टीम मजबूत स्थिति में पहुंच चुकी है फिर जैसे ही vvs लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ आउट हुए कप्तान सौरव गांगुली ने पारी घोषित कर दी.

अब australia की team का डर

अब तक जो कंगारू पहली पारी में जीतने का ख्वाब पाल बैठे थे अब उनको भी हार का डर लगने लग रहा था अब उनके सामने लक्ष्य था 384 रनों का जीत के लिए लेकिन अब यहां से ऑस्ट्रेलिया टीम के लिए जीत का फैसला अब काफी बड़ा था और यहां से अब बाजी भी पूरी तरह से पलट चुकी थी कंगारुओं की पूरी टीम 212 रन पर ढेर हो जाती है और जीता हुआ मैच 171 रनों से हार जाती है.

जीत के साथ भारतीय टीम का सुनहरा इतिहास

Follow on खेलकर भी 171 रनों की जीत के साथ भारतीय टीम ने इतिहास के स्वर्णिम पन्नों में अपना नाम स्वर्णिम अक्षरों से दर्ज करा लिया था और भारतीय टीम इस कारनामे के साथ इतिहास की वह तीसरी टीम बन चुकी थी जिसने फॉलोऑन खेलने के बाद भी मैच को न सिर्फ जीता हो बल्कि इतने बड़े अंतर से जीता हूं.

Leave a Comment